NotesOnline.in | Free Study Material Sample paper for Exam

Monday, 15 May 2017

भारत में सूफी आंदोलन का संक्षिप्त विवरण

भारत में सूफी आंदोलन का संक्षिप्त विवरण

“सूफी” शब्द की उत्पत्ति अरबी शब्द “सफा” से हुई है जिसके दो अर्थ हैं-
ऐसे व्यक्ति जो ऊनी वस्त्र पहनते हैं
शुद्धता और पवित्रता
इस मध्य काल के दौरान दो परस्पर विरोधी आस्थाओं एवं विश्वासों के ख़िलाफ़ सुधार अति आवश्यक हो गया था , जिसके द्वारा हिन्दू धर्म के कर्मकाण्ड एवं इस्लाम धर्म में कट्टर पंथियों के प्रभाव को कम किया जा सके। इन आन्दोलनों ने व्यापक आध्यात्मिकता एवं अद्वैतवाद पर बल दिया, साथ ही निरर्थक कर्मकाण्ड, आडम्बर एवं कट्टरपंथ के स्थान पर प्रेम, उदारतावाद एवं गहन भक्ति को अपना आदर्श बनाया । सूफीवाद के सिद्धांत “ईश्वर की प्राप्ति” पर आधारित है,

भारत में सूफी आंदोलन का संक्षिप्त विवरण

  • इस मत के लोगों के विचार और प्रथाएं हिंदू धर्म, ईसाई धर्म, बौद्ध धर्म और पारसी धर्म का मिलाजुला रूप था|
  • इस मत का उद्देश्य आध्यात्मिक आत्म विकास के माध्यम से मानवता की सेवा करना था|
more at 

Saturday, 6 May 2017

The South Asian Satellite – Some highlights , GSAT 9 लॉन्च: साउथ एशिया सैटेलाइट का प्रक्षेपण सफल


भारत ने साउथ एशिया सेटलाइट (GSAT-9) का सफल प्रक्षेपण किया। शुक्रवार (5 मई,2017 ) को यह प्रक्षेपण श्रीहरिकोटा से किया गया। इसको जियोसिक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च वेहिकल (जीएसएलवी) से लॉन्च किया गया। इस मिशन में पाकिस्तान शामिल नहीं था। सार्क के बाकी छह देशों को फायदा होगा। इसको बनाने में भारत को कुल तीन साल लगे। इसे बनाने में कुल 235 करोड़ रुपए खर्च हुए। भारत के अलावा अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, मालदीव, नेपाल और श्रीलंका जीसैट-9 का लाभ ले सकेंगे।

Some Highlights

  • Space diplomacy has touched new heights with Prime Minister Narendra Modi’s unique gift in the sky to South Asian neighbours.
  • The gift of a communications satellite for use by neighbours at no cost has perhaps no precedent worldwide.
  • The satellite, which weighs over 2 tonnes, has been fabricated in three years at a cost of over Rs. 230 crore.
  • Its footprint that extends all over South Asia.
  • The South Asia Satellite has 12 Ku band transponders which India’s neighbours can utilise to increase communications.
  • Each country will get access to at least one transponder through which they could beam their own programming.
  • The satellite will facilitate DTH television, VSAT links, tele-education, telemedicine and disaster management support. It will provide critical communication links in times of disasters such as earthquakes, cyclones, floods, and tsunamis.
  • Heads of Government from all the seven South Asian nations who are benefiting from the satellite, connected via video conference, in a unique celebration of the successful launch.

Friday, 5 May 2017

संविधान का विकास , संक्षिप्त में, Indian Constitution development milestone

संविधान का विकास , संक्षिप्त में, Indian Constitution development milestone

1757 ई. की प्लासी की लड़ाई और 1764 ई. बक्सर के युद्ध  के बाद बंगाल पर ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने शासन मोर्चा लिया . इसी शासन को अपने लिए बेहतर  बनाए  के लिए अंग्रेजों ने  कई एक्ट पारित किए, जो भारतीय संविधान के विकास की माइलस्टोन  बनीं. कुछ का विवरण है
 1773 ई. का रेग्‍यूलेटिंग एक्ट: इस एक्ट के अंतर्गत कलकत्ता में एक ऐसी सरकार स्थापित की गई, जिसमें गवर्नर जनरल और उसकी परिषद के चार सदस्य थे,  इसकी मुख्य बातें  हैं –
(i) कंपनी के शासन पर संसदीय नियंत्रण स्थापित किया गया.
(ii) बंगाल के गवर्नर को तीनों प्रेसिडेंसियों का जनरल नियुक्त किया गया.
(iii) कलकत्ता में एक सुप्रीम कोर्ट ()की स्थापना की गई.
1784 ई. का पिट्स इंडिया एक्ट: दोहरे प्रशासन का प्रारंभ हुआ-
(i) कोर्ट ऑफ़ डायरेक्टर्सव्यापारिक मामलों के लिए (जैसे आजकल बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स होते हैं कंपनी में )
(ii) बोर्ड ऑफ़ कंट्रोलर- राजनीतिक मामलों के लिए.
1793 ई. का चार्टर अधिनियम नियंत्रण बोर्ड के सदस्यों तथा कर्मचारियों के वेतन आदि को भारतीय राजस्व  से देने की व्‍यवस्‍था की गई.
1813 ई. का चार्टर अधिनियम: इसके द्वारा
(i) कंपनी के अधिकार-पत्र को 20 सालों के लिए बढ़ा दिया गया.
(ii)
कंपनी के भारत के साथ व्यापर करने के एकाधिकार को छीन लिया गया. लेकिन उसे चीन के साथ व्यापार  /  चाय के व्यापार के संबंध में एकाधिकार प्राप्त रहा.
(iii) 
सभी ब्रिटिश नागरिकों के लिए भारत के साथ व्यापार खोल (कुछ सीमाओं के अधीन) दिया गया.
1833 ई. का चार्टर अधिनियम:
(i) कंपनी के व्यापारिक अधिकार पूर्णतः समाप्त कर दिए गए.
(ii) अब कंपनी का कार्य , मात्र भारत का शासन करना रह गया.
(iii) बंगाल  के गवर्नर जरनल को भारत का गवर्नर जनरल कहा जाने लगा.
(iv)  विधि आयोग की नियुक्ति की व्यवस्था की गई.
1853 ई. का चार्टर अधिनियम:  कंपनी के महत्वपूर्ण पदों को प्रतियोगी परीक्षाओं के आधार पर भरने की व्यवस्था की गई.
1858 ई. का चार्टर अधिनियम:
(i) भारत का शासन कंपनी से लेकर ब्रिटिश क्राउन को दिया गया
(ii) भारत में मंत्री-पद की व्यवस्था की गई.
(iii) 15 सदस्यों की भारत-परिषद का सृजन हुआ.
(iv) भारत में  ब्रिटिश संसद का सीधा नियंत्रण स्थापित किया गया.
1861 ई. का भारत शासन अधिनियम:
(i)
गवर्नर जनरल की कार्यकारिणी परिषद का विस्तार किया गया,
(ii) विभागीय प्रणाली का प्रारंभ हुआ,
(iii) गवर्नर जनरल को अध्यादेश जारी करने की शक्ति प्रदान की गई.
(iv) गवर्नर जरनल को बंगाल, उत्तर-पश्चिमी सीमा प्रांत और पंजाब में विधान परिषद स्थापित करने की शक्ति प्रदान की गई.
1892 ई. का भारत शासन अधिनियम:
(i)
अप्रत्यक्ष चुनाव-प्रणाली की शुरुआत हुई,
(ii) इसके द्वारा राजस्व एवं व्यय अथवा बजट पर बहस करने तथा कार्यकारिणी से प्रश्न पूछने की शक्ति दी गई.

more at.....website click here 

Indore emerges as the Cleanest City of India

Indore emerges as the Cleanest City of India

Top 10

  1. Bhopal,
  2. Visakhapatnam,
  3. Surat,
  4. Mysuru,
  5. Tiruchirapally,
  6. NDMC,
  7. Navi Mumbai,
  8. Vadodara,
  9. Chandigarh
Indore has emerged as the India’s Cleanest City in the Swachh Survekshan-2017 conducted in 434 cities and towns, the results of which were announced here today by the Minister of Urban Development Shri M.Venakaiah Naidu. Bhopal, Visakhapatnam, Surat, Mysuru, Tiruchirapally, New Delhi Municipal Council, Navi Mumbai, Vadodara and Chandigarh are among the Top 10 clean cities in that order. 10 towns that came at the bottom of the 434 surveyed are; Gonda (UP) ranked 434 followed by Bhusawal (Maharashtra), Bagaha (Bihar)- 433, Hardoi (UP)-432, Katihar (Bihar)-431, Bahraich (UP)-429, Muktsar (Punjab)-427, Muktsar (Punjab)-426 and Khurja (UP)-425. Announcing the Survey Results, Shri Naidu described Madhya Pradesh, Gujarat, Jharkhand and Chattisgarh followed by Andhra Pradesh and Telangana as the Movers and Shakers for having significantly improved their rankings from that of the Survey conducted in 2014 before the launch of Swachh Bharat Mission in October, 2014. Swachh Survekshan conducted in 2016 covered 73 cities with over million population each besides capital cities. The Minister further informed that in Swachh Surekshan-2017, all the cities surveyed in Madhya Pradesh and Jharkhand have substantially improved their rankings over that of 2016 and 2014. Gujarat did so in respect of all cities excepting Rajkot and similar being the case in respect of Chattisgarh except Bilaspur. In Telangana, only two cities have dropped in rankings this year while it happened in respect of four cities in Andhra Pradesh. Shri Naidu stated that a total of 14 States were represented in the Top 50 clean cities with Gujarat accounting for 12, followed Madhya Pradesh-11, Andhra Pradesh-8 and one each from Chandigarh, Chattisgarh, Delhi, Jharkhand, Karnataka, Sikkim and Uttar Pradesh. 25 towns from Uttar Pradesh are ranked among the bottom 50 cities with followed by Rajasthan and Punjab with five each, two in Maharashtra and one each from Haryana, Karnataka and Lashadweep. Varanasi has however, improved its rank from 418 in 2014 to 32 this year to become the Fastest Big City Mover in the North Zone. The Minister said that UP, Bihar, Rajasthan, Punjab and Kerala need to substantially step up efforts to improve sanitation standards in urban areas. Faridabad in Haryana has improved its rank from 379 in 2014 to 88 this year and has been awarded for being the ‘Fastest Mover’ among cities with a population of above one million each. Shri Venkaiah Naidu stressed that this year’s survey results are “Citizens’ Verdict” on cleanliness in urban areas of the country with 37 lakh citizens’ enthusiastically providing feedback on cleanliness in 434 cities and towns accounting for about 60% of the total urban population in the country. He stated that such survey will be commissioned in all the 4,041 statutory towns and cities. Shri Naidu further referred to India improving its position by 12 places in the global Travel and Tourism Competitive Index and feedback from media persons as further confirmation of improving sanitation in urban areas. Referring to Mysuru in Karnataka which topped the ranks in 2016 and 2014 and ranked five in this year’s survey, Shri Naidu asserted that in no way it meant that cleanliness has declined in the city or the city government scaled down its efforts. He explained that Mysuru scored over 87% out of the total score of 2,000 in both 2017 and 2016 indicating that sanitation level has not come down this year while other cities have scored over Mysuru. “This spirit of competition is sought to be promoted through such surveys to help cities know where they stand in absolute terms and in relation to other cities as well” said the Minister. 38 cities were awarded including the Top five clean cities at the national level, cleanest cities and fastest movers in different zones in 5-10 lakh and 2-5 lakh population categories. Swachh Survekshan-2017 aimed at capturing the outcomes on ground of the ongoing efforts to make urban areas Open Defecation Free and to improve door-to-door collection, processing and disposal of Municipal Solid Waste. Of the total score of 2,000, 900 marks were assigned for performance in respect of ODF and solid waste management, 600 marks for Citizen Feedbak and 500 marks for Independent Observation. Quality Council of India that conducted the survey during January-February this year deployed 421 assessors for on the site inspection of cleanliness in 434 cities and towns and another 55 for real time monitoring of progress of survey and field inspections. Field inspectors used geo-tagged devices for collecting evidence in real time of their inspection at 17,500 locations.

भारत सरकार अधिनियम- 1919

भारत सरकार अधिनियम- 1919

को ‘मांटेग्यू-चेम्सफ़ोर्ड सुधार’ के नाम से भी जाना जाता है। भारतमंत्री लॉर्ड मांटेग्यू ने 20 अगस्त, 1917 को ब्रिटिश संसद में यह घोषणा की कि ब्रिटिश सरकार का उद्देश्य भारत में उत्तरदायी शासन की स्थापना करना है। नवम्बर, 1917 में भारतमंत्री मांटेग्यू ने भारत आकर तत्कालीन वायसराय चेम्सफ़ोर्ड एवं अन्य असैनिक अधिकारियों एवं भारतीय नेताओं से प्रस्ताव के बारे में विचार-विमर्श किया। एक समिति सर विलियम ड्यूक, भूपेन्द्रनाथ बासु, चार्ल्स रॉबर्ट की सदस्यता में बनाई गयी, जिसने भारतमंत्री एवं वायसराय को प्रस्तावों को अन्तिम रूप देने में सहयोग दिया। 1918 ई. में इस प्रस्ताव को प्रकाशित किया गया। यह अधिनियम अन्तिम रूप से 1921 ई. में लागू किया गया। मांटेग्यू-चेम्सफ़ोर्ड रिपोर्ट के प्रवर्तनों को भारत के रंग बिरंगे इतिहास में “सबसे महत्त्वपूर्ण घोषणा” की संज्ञा दी गयी और इसे एक युग का अन्त और एक नवीन युग का प्रारंभ माना गया। इस घोषणा ने कुछ समय के लिए भारत में तनावपूर्ण वातावरण को समाप्त कर दिया। पहली बार ‘उत्तरदायी शासन’ शब्दों का प्रयोग इसी घोषणा में किया गया।

विशेषताएँ

  • ब्रिटिश भारत के प्रांतों के लिए बड़े पैमाने पर स्वायत्तता की अनुमति (भारत सरकार का 1919 अधिनियम द्वारा शुरूआत की गई द्विशासन की प्रणाली को समाप्त करना)
  • ब्रिटिश भारत और कुछ या सभी शाही राज्यों दोनों के लिए “भारतीय संघ” की स्थापना के लिए प्रावधान.
  • प्रत्यक्ष चुनाव की शुरूआत करना, ताकि सात लाख से पैंतीस लाख लोगों का मताधिकार बढ़े
  • प्रांतों का एक आंशिक पुनर्गठन:
  • सिंध, बंबई से अलग हो गया था
  • बिहार और उड़ीसा को अलग प्रांतों में विभाजित करते हुए बिहार और उड़ीसा किया गया था
  • बर्मा को सम्पूर्ण रूप से भारत से अलग किया गया था
  • एडन, भारत से अलग था और अलग कॉलोनी के रूप में स्थापित हुआ।
  • प्रांतीय असेंबलियों की सदस्यता को बदल दिया गया और उसमें अधिक भारतीय प्रतिनिधि निर्वाचित हुए, जो कि अब एक बहुमत बना सकते थे
  • और सरकारों बनाने के रूप में नियुक्त करना शामिल था।
  • एक संघीय न्यायालय की स्थापना
हालांकि, स्वायत्तता की डिग्री प्रांतीय स्तर की शुरूआत महत्त्वपूर्ण सीमाओं के अधीन था: प्रांतीय गवर्नर महत्त्वपूर्ण आरक्षित शक्तियों को बरकरार रखा और ब्रिटिश अधिकारियों ने भी एक जिम्मेदार सरकार को निलंबित अधिकार बनाए रखा।
अधिनियम के कुछ हिस्सों की मांग भारत संघ को स्थापित करना था लेकिन राजसी राज्यों के शासकों के विरोध के कारण कभी संचालन में नहीं आया। जब अधिनियम के तहत पहला चुनाव का आयोजन हुआ तब अधिनियम का शेष भाग 1937 में लागू हुआ।

Wednesday, 3 May 2017

हेमचन्द्र विक्रमादित्य, हेमू

हेमचन्द्र विक्रमादित्य, हेमू

राजा विक्रमाजीत हेमू का जन्म मेवात स्थित रिवाड़ी के एक अति सामान्य परिवार में हुआ था। उनकी जाति आदि के बारे में इतिहासकारों में मतभेद है। अपने वैयक्तिक गुणों तथा कार्यकुशलता के कारण यह सूर सम्राट् आदिलशाह के दरबार का प्रधान मंत्री बन गया था। यह राज्य कार्यो का संचालन बड़े योग्यता पूर्वक करता था। आदिलशाह स्वयं अयोग्य था और अपने कार्यों का भार वह हेमू पर डाले रहता था।जिस समय हुमायूँ की मृत्यु हुई उस समय आदिलशाह मिर्जापुर के पास चुनार में रह रहा था। हुमायूँ की मृत्यु का समाचार सुनकर हेमू अपने स्वामी की ओर से युद्ध करने के लिए दिल्ली की ओर चल पड़ा। वह ग्वालियर होता हुआ आगे बढ़ा और उसने आगरा तथा दिल्ली पर अपना अधिकार जमा लिया। तरदीबेग खाँ दिल्ली की सुरक्षा के लिए नियुक्त किया गया था। हेमू ने बेग को हरा दिया और वह दिल्ली छोड़कर भाग गया।इस विजय से हेमू के पास काफी धन, लगभग 1500 हाथी तथा एक विशाल सेना एकत्र हो गई थी। उसने अफगान सेना की कुछ टुकड़ियों को प्रचुर धन देकर अपनी ओर कर लिया। तत्पश्चात्‌ उसने प्राचीन काल के अनेक प्रसिद्ध हिंदू राजाओं की उपाधि धारण की और ‘राजा विक्रमादित्य’ अथवा विक्रमाजीत कहलाने लगा। इसके बाद वह अकबर तथा बैरम खाँ से लड़ने के लिए पानीपत के ऐतिहासिक युद्धक्षेत्र में जा डटा। 5 नवम्बर 1556 को युद्ध प्रारंभ हुआ। इतिहास में यह युद्ध पानीपत के दूसरे युद्ध के नाम से प्रसिद्ध है। हेमू की सेना संख्या में अधिक थी तथा उसका तोपखाना भी अच्छा था किंतु एक तीर उसकी आँख में लग जाने से वह बेहोश हो गया। इसपर उसकी सेना तितर-बितर हो गई। हेमू को पकड़कर अकबर के सम्मुख लाया गया और बैरम खाँ के आदेश से मार डाला गया।शहर के कतोपुर स्थित साधारण पूरणदास परिवार में जन्मे अंतिम हिंदू सम्राट होने का गौरव प्राप्त करने वाले अग्रवंशी राजा हेमचंद विक्रमादित्य 7 अक्टूबर 1556 को मुगलों को हराकर दिल्ली की गद्दी पर आसीन हुए थे। हेमू को लेकर लगातार शोध कर रही हेमचंद्र विक्रमादित्य फांउडेशन के मुताबिक भारतीय मध्यकालीन इतिहास में पृथ्वीराज चौहान की सन् 1192 में हार के पश्चात भारतीय संस्कृति और राष्ट्रीयता को व्यापक आघात लगा बल्कि स्थानीय लोगों में हमलावरों का मुकाबला करने की इच्छा शक्ति भी कमजोर हो गई थी। शेरशाह सूरी की मृत्यु 22 मई, 1545 ईं. को हुई थी। यह कहा जाता है कि शेरशाह के उत्तराधिकारी इस्लामशाह की नजर रिवाड़ी में हाथी की सवारी करते हुए, युवा, बलिष्ठ हेमचंद्र पर पड़ी तथा वे उसे अपने साथ ले गए, उनकी प्रतिभा को देखकर इस्लामशाह ने उन्हें शानाये मण्डी, दरोगा ए डाक चौकी तथा प्रमुख सेनापति ही नहीं, बल्कि अपना निकटतम सलाहाकार बना दिया। साथ में 1552 ई. में इस्लामशाह की मत्यु पर उसके 12 वर्षीय पुत्र फिरोज खां को शासक बनाया गया, परन्तु तीन दिन के बाद आदित्यशाह सूरी ने उसकी हत्या कर दी। नए शासक का मूलत: नाम मुवरेज खां या मुबारक शाह था, जिसने ‘आदित्यशाह’ की उपाधि धारण की थी। आदित्यशाह एक विलासी शराबी तथा निर्बल शासक था। उसके काल में चारों ओर भयंकर विद्रोह हुए। आदित्यशाह ने व्यावहारिक रूप से हेेमचन्द्र को शासन की समस्त जिम्मेदारी सौंपकर, प्रधानमंत्री तथा अफगान सेना का मुख्य सेनापति बना दिया।16 वीं सदी के प्रांरभ में बाबर के हमलों से त्रस्त अपने मंदिरों व सांस्कृतिक स्तंभों को ध्वस्त होते देख जनता बैचेन व मजबूर हालात में थी।

जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर (१५ अक्तूबर, १५४२-२७ अक्तूबर, १६०५)

जलाल उद्दीन मोहम्मद अकबर  (१५ अक्तूबर, १५४२-२७ अक्तूबर, १६०५)

तैमूरी वंशावली के मुगल वंश का तीसरा शासक था। बाबर का पौत्र और  हुमायूं एवं हमीदा बानो का पुत्र था। बाबर का वंश तैमूर और मंगोल नेता चंगेज खां से संबंधित था . अकबर के शासन के अंत तक १६०५ में मुगल साम्राज्य में उत्तरी और मध्य भारत के अधिकाश भाग सम्मिलित थे और उस समय के सर्वाधिक शक्तिशाली साम्राज्यों में से एक था।हिन्दू-मुस्लिम संप्रदायों के बीच की दूरियां कम करने के लिए दीन-ए-इलाही नामक धर्म की स्थापना की। जज़िया समाप्त किया.अकबर मात्र तेरह वर्ष की आयु में दिल्ली की राजगद्दी पर बैठा था।पानीपत के द्वितीय युद्ध में नवघोषित हिन्दू राजा हेमू को पराजित किया था। उसने अनेक संस्कृत पाण्डुलिपियों व ग्रन्थों का फारसी में तथा फारसी ग्रन्थों का संस्कृत व हिन्दी में अनुवाद भी करवाया था। अकबर का जन्म राजपूत शासक राणा अमरसाल के महल उमेरकोट, सिंध (वर्तमान पाकिस्तान) में २३ नवंबर, १५४२  हुआ था। शेरशाह सूरी के पुत्र इस्लाम शाह के उत्तराधिकार के विवादों से उत्पन्न अराजकता का लाभ उठा कर हुमायूँ ने १५५५ में दिल्ली पर पुनः अधिकार कर लिया। १३ वर्षीय अकबर का कलनौर, पंजाब में सुनहरे वस्त्र तथा एक गहरे रंग की पगड़ी में एक नवनिर्मित मंच पर राजतिलक हुआ।

 अकबर के नवरत्न

  1.     अबुल फजल (१५५१ – १६०२) ने अकबर के काल को कलमबद्ध किया था। उसने अकबरनामा , आइन-ए-अकबरी की रचना की थी।
  2.     फैजी (१५४७ – १५९५) अबुल फजल का भाई था। वह फारसी में कविता करता था।
  3.     मिंया तानसेन अकबर के दरबार में गायक थे। वह कविता भी लिखा करते थे।
  4.     राजा बीरबल (१५२८ – १५८३) दरबार के विदूषक और अकबर के सलाहकार थे।
  5.     राजा टोडरमल अकबर के वित्त मंत्री थे। इन्होंने विश्व की प्रथम भूमि लेखा जोखा एवं मापन प्रणाली तैयार की थी।
  6.     राजा मान सिंह आम्बेर (जयपुर) के कच्छवाहा राजपूत राजा थे। वह अकबर की सेना के प्रधान सेनापति थे।
  7.     अब्दुल रहीम खान-ऐ-खाना एक कवि थे और अकबर के संरक्षक बैरम खान के बेटे थे।
  8.     फकीर अजिओं-दिन अकबर के सलाहकार थे।
  9.     मुल्लाह दो पिअज़ा अकबर के सलाहकार थे।

अकबर के प्रमुख युद्ध

Daily Top 10 Headlines in Hindi & English : 11 Oct 2018

Daily Top 10 Headlines in Hindi & English : 11 Oct 2018 : Civil Service , current affairs, history, geography, economics, science, gener...